छिपकली (Chhipakali) का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Lizard scientific name :  इस लेख में छिपकल्ली [chhipakali] के बारे में चर्चा करेंगे। आज के समय मे छिपकली ज्यादातर घरों में देखने को मिलती है। लेकिन क्या अपने कभी सोचा कि छिपकली का वैज्ञानिक नाम क्या है।

यह भी पढ़े - मधुमक्खी का वैज्ञानिक नाम 

Chhipakali: इनका शरीर छोटे-छोटे शल्कों से ढंका तथा सिर-गर्दन, धड़ और पूँछ चार भागों में बँटा होता है। धड़ में चार पैर होते हैं, जिनमें नखयुक्त अंगुलियाँ पाई जाती हैं। 


छिपकली का वैज्ञानिक नाम क्या है? [Chhipakali ka vaigyanik naam]

छिपकली ( Chipkali ) का वैज्ञानिक नाम Lacertilia ( लैसर्टीलिया ) है । छिपकली एक तरह का घर का कीड़ा होता है , जो छोटे छोटे कीट पतंग का खाती है। 

छिपकली का वैज्ञानिक नाम क्या है? [Chhipakali ka vaigyanik naam

छिपकली (lizard) की उत्पत्ति तथा उनके प्रजातियाँ

छिपकली Lizard की उत्पत्ति धरती पर 200 मिलियन साल पुरानी है। विश्व भर में छिपकली में सबसे ज्यादा 6000 प्रजातियां पाई जाती है । घरेलू छिपकली सबसे कम जहरीली होती है। इनका शरीर छोटे - छोटे शल्कों से ढंका तथा सिर - गर्दन , धड़ और पूँछ चार भागों में बँटा होता है।


छिपकली का वर्गीकरण ( classification ) 

शाखा यूमेटाजोआ
प्रभाग बाइलैटरिया
उपप्रभाग ड्यूटरोस्टोमिया
खण्ड यूसीलोमैटा
संघ कॉर्डेटा
उपसंघ वर्टीब्रेटा
महावर्ग चतुष्पादा
वर्ग सरीसृप
उपवर्ग लेपिडोसॉरिया
गण स्क्वैमैटा
उपगण लैसरटिलिया या सॉरिया

यह भी पढ़े - सिंदूर का रासायनिक सूत्र

छिपकली से जुड़ें कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

इनका सबसे खास बात यह है कि ये दुश्मन से बचने के लिए अपने पूंछ को शरीर से अलग कर देती है। टूटी हुई पूँछ कुछ समय तक हिलती रहती है । दुश्मन का ध्यान इसके ओर आकर्षित होता है। इस बीच छिपकली स्वयं भाग निकलती है। टूटी हुई पूंछ के स्थान पर फिर से नई पूंछ बन जाती है।

उनकी अंतर्निहित त्वचा पर चिपचिपा उभार यानि लैमेली पाया जाता है, जो छिपकली को दीवारों, पेड़ों आदि पर चढ़ने में सहायक होता है। इनके जीभ ( जिह्वा) छोटी होती है लेकिन इससे ये तीव्रता से शिकार को पकड़ती है।  


Conclusion

आज आप इस लेख के माध्यम से छिपकली का वैज्ञानिक नाम तथा इससे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को जान गए होंगे। अगर किसी प्रकार की गलती मिली हो तो हमे comment करके जरूर अवगत कराएं।

इसी प्रकार की और भी important Notes, pdf notes, study material का updates पाने के लिए हमारे telegram channel को join कीजिये।

You may like these posts

Join Telegram for more updates click here